जातिगत जनगणना को लेकर सर्वदलीय बैठक, तेजस्वी ने कही बड़ी बात

पटना: जातिगत जनगणना को लेकर सभी पार्टियों की सर्वदलीय बैठक बुलाई गई थी. ये बैठक पटना में आयोजित हुआ था. जहां RJD का प्रतिनिधित्व तेजस्वी यादव कर रहे थे. तेजस्वी यादव ने कहा कि बिल को अगली कैबिनेट बैठक में लाने और नवंबर के महीने में इसे शुरू करनी चाहिए. उनका आगे कहना था कि छठ पुजा में बिहार से बाहर रहने वाले कई लोग घर आते हैं इस समय आकड़े सही प्राप्त होंगे, और पर्याप्त समय भी तैयारी करने के लिए मिल जाएगा. पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कहा कि जातीय जनगणना है ना कि जनगणना, ये हमारी जीत है. बैठक के दौरान तेजस्वी ने बताया कि इसमें मानव शास्त्रियों को शामिल करने के लिए अपना सुझाव दिया है. इसे लेकर केन्द्र सरकार को आगे आना चाहिए और आर्थिक रुप से समर्थन करना चाहिए. ये फैसला बिहार के रहने वाले लोगों के हित में है.

नीतीश कुमार ने कही ये बात

बिहार प्रदेश के मुखिया नीतीश कुमार ने बैठक को लेकर अपनी खुशी जताई. उन्होंने कहा कि सरकार राष्ट्रीय स्तर पर जाति जनगणना कराने के लिए केंद्र की अनिच्छा के बाद राज्य में “सभी जातियों और समुदायों का सामाजिक-आर्थिक सर्वेक्षण” करेगी. वही सर्वदलीय बैठक की अध्यक्षता करने के बाद, कुमार ने कहा कि विशाल अभ्यास के लिए आवश्यक कैबिनेट मंजूरी जल्द ही दी जाएगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि ये खुशी के बात है कि सभी दलों के लोगों ने इस बैठक को लेकर सर्वसम्मति से समर्थन किया है.

बीजेपी से कौन-कौन शामिल

उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और राज्य इकाई के प्रमुख संजय जायसवाल ने बैठक में भाग लिया. बीजेपी अपने केन्द्र के फैसले पर अडिग रही. इस बैठक को लेकर बीजेपी के नेताओं ने कैमरे से बचने की कोशिश की. जातीय जनगणना को लेकर बीजेपी के कई नेता इसके हक में नहीं है लेकिन उनके भी अपनी मजबूरी है. आपको बता दें कि केन्द्र सरकार ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि अगर राज्य सरकार जातीय जनगणना कराना चाहती है तो राज्य सरकार स्वतंत्र है. केन्द्र सरकार के तरफ से कोई भी आर्थिक मदद नहीं मिल पाएगी.

ताज़ा खबरें

अगली खबर

रोहतास: हत्या के दो महीने बाद भी नहीं हो सका शवों का पहचान

dead bodies found in rohtas

जिले के करगहर व सासाराम मुफस्सिल थान क्षेत्र से बरामद हत्या कर फेंके गए महिला के शव की पहचान करने में पुलिस तंत्र विफल है। घटना के करीब दो माह के समय गुजरने के बाद भी पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगे हैं। ऐसे में घटना को अंजाम देने वाले अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार विगत आठ नवंबर को करगहर थाना क्षेत्र में सड़क से एक महिला का शव बरामद हुआ था। महिला को अपराधियों ने गोली मारकर मौत के घाट उतारा था। हत्या के बाद अपराधी सड़क पर महिला का शव फेंक भाग निकले थे। सड़क से गुजर रहे लोगों की सूचना पर पुलिस ने शव को बरामद किया था। लेकिन, शव बरामदगी के लंबे समय बीतने के बाद पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लग सका है। थाना से मिली जानकारी के अनुसार महिला की पहचान के लिए प्रयास चल रहा है। लेकिन, अभी तक कोई उपलब्धि नहीं मिली है।

वहीं एक दूसरी घटना सासाराम के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के मोहद्दीगंज से 13 नवम्बर को प्रकाश में आई थी। जहां एक तालाब में महिला का शव पुलिस ने बरामद किया था। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो महिला की हत्या के बाद शव को ठिकाने लगाने के लिए तालाब में फेंकने के दौरान भारी वस्तु बांधकर उसे डूबा दिया गया होगा। ऐसे में दो-तीन दिन बाद जब शव पानी में ऊपर आया, तो लोग देख सके। बहरहाल मामला जो भी हो मृतका की पहचान के बाद ही घटना का खुलासा होगा।

पुलिस तलाब से मिली महिला के शव की कोई जानकारी महीना दिन बाद भी नहीं जुटा सकी है। ऐसे में करगहर व मुफस्सिल थाना क्षेत्र से बरामद दो महिला शवों की पहचान वउसके मौत फाइलों में दब कर रह गई है। मुफस्सिल थानाध्यक्ष मो. रिजवान अहमद ने बताया कि शव की पहचान अब तक नहीं हो सकी है। वहीं करगहर थानाध्यक्ष रामविलास प्रसाद ने बताया कि हत्या कर फेंकी गई महिला का शव की पहचान में पुलिस जुटी है।

Source: Hindustan

अगली खबर

मोबाइल नहीं देने पर सीने में दाग दी गोली, युवक की हालत गंभीर

इन दिनों बिहार में मोबाइल चोरी, छिनतई अब आम बात हो गई है. हर जिलों से प्रतिदिन सैकड़ों इस तरह के केस आते हैं. क्राइम पर कोई रोक नहीं है.अपराधियों के भीतर कानून का भय खत्म होते जा रहा है. प्रदेश के भोजपुर जिले से ऐसी ही एक घटना सामने आई है. जहां एक युवक से जबरन मोबाइल छिनने की कोशिश की गई. जिले के कोईलवर थाना क्षेत्र के गीधा ओपी अंतर्गत सोनघट्टा मोड़ स्थित आलू कोल्ड स्टोर के समीप युवक से अपराधी मोबाइल छिन रहे थे. युवक ने जमकर विरोध किया. गिड़गिड़ाता रहा है, कहा कि हम गरीब है हमारे पास मोबाइल नहीं है लेकिन बदमाशों ने एक नहीं सुनी. मोबाइल नहीं देनेे पर युवक के ऊपर गोली चला दी. बदमाश एक अपाची बाइक से आए थे. लड़का पुरी तरह से घायल होकर उसी स्थान पर बेसुध हो गया. परिजनों को सूचना मिलते ही आनन-फानन में आरा शहर के बाबू बाजार स्थित निजी अस्पताल लाया गया. जहां पर युवक इलाज चल रहा है. डॉक्टर ने बताया कि गोली सीने में लगी है, ब्लड काफी बह चुका है. उसके सीने में टेस्ट ट्यूब लगाया जा रहा है. दो यूनिट ब्लड चढ़ाया जाएगा. डॉ.विकास सिंह ने आगे बताया कि स्थिति अभी नाजुक बनी है, युवक को कुछ दिनों तक ऑब्जर्वेशन में रखा जाएगा.

SP ने कहा कि बदमाशों को जल्द से जल्द पकड़ा जाएगा

घटना की सूचना मिलते ही SP सीधे अस्पताल पहुंच कर घायल से मिले. पुरी घटना की जानकारी लेते उन्होंने बताया कि घायल युवक कोइलवर थाना क्षेत्र के गीधा ओपी अंतर्गत सोनघट्टा गांव निवासी लाल मोहन पांडेय का पुत्र 19 वर्षीय अमन पांडे है. अमन दुध प्लांट में पैकिंग का काम करता है. हर रोज की तरह वो काम पर जा रहा था इसी दौरान घटना हो गई. अधीक्षक ने कहा कि हम इसे लुट-पाट की एंगल से ही जांच कर रहे हैं. उस जगह पर जो भी घटनाएं घटी है उसे लेकर जांच करेंगे ताकि अपराधियों को जल्द से जल्द से गिरफ्तार कर सकें. SP ने बताया कि हम लोगों से कोआर्डिनेशन बनाए ऱखे हुए जिससे लॉ एंड आर्डर बनी रहे. वही थाना इंचार्ज प्रवीण कुमार घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की छानबीन में जुट गए हैं.

 

अगली खबर

Aadhar Card नहीं दिखाने पर BJP नेता ने एक व्यक्ति की ली जान? सोशल साइट पर वीडियो वायरल

मध्य प्रदेश: सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. जिसमें एक युवक से आधार कार्ड नहीं दिखाने पर बेरहमी से पीटा जा रहा है. ये वीडियो मध्यप्रदेश के नीमच जिले की बताई जा रही है हालांकि इस वीडियो की पुष्टि रोहतास पत्रिका नही कर रहा है. वायरल वीडियो में बीजेपी पार्षद के पति दिनेश कुशवाहा को कथित तौर पर जैन की पिटाई करते हुए देखा जा रहा है और उसे आधार कार्ड मांग रहे हैं. बीजेपी नेता युवक से पुछ रहे हैं कि क्या तुम मुस्लिम हो?

वायरल वीडियो पर पुलिस ने क्या कहा?

सोशल मीडिया पर वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है. इस वीडियो में जिस व्यक्ति से आधार कार्ड मांगा जा रहा है. उसका नाम रतलाम के सरसी गांव निवासी 60 वर्षीय भंवरलाल जैन बताया जा रहा है. वहीं मानसा से भंवरलाल मृत स्थित में पाए गए. पुलिस ने शनिवार को सूचना दिया. सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने शनिवार को IPC की धारा 304 (लापरवाही से मौत) और 302 (हत्या) के तहत प्राथमिकी दर्ज की. मनासा थाना प्रभारी केएल डांगी ने बताया कि भंवरलाल जैन 18 मई को अपने परिवार के साथ चित्तौड़गढ़ गया था. उसके बाद में वह लापता हो गया. शुक्रवार को नीमच जिले के मनासा में उनका शव मिला. उन्होंने आगे कहा कि हम वीडियो की जांच कर रहे हैं. मामले में आरोपी के साथ वीडियो बनाने वाले के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी. इस मामले के बाद दिनेश कुशवाहा फरार हो गए हैं.

स्थानीय नेताओं ने बोला हमला

Congress के नेताओं ने BJP सरकार पर कई सवाल खड़े किए हैं. विधायक जीतू पटवारी ने कहा, ‘राज्य में कानून-व्यवस्था नहीं है और सिर्फ आधार कार्ड नहीं दिखाने पर एक व्यक्ति को पीट-पीट कर मार डाला गया. मुस्लिम, दलित और आदिवासी के बाद जैन पर हमले हुए. प्रदेश में कोई सुरक्षित नहीं है. इस मामले को लेकर गृह मंत्री अमित शाह जी को कुछ कहना चाहिए. वही BJP के प्रवक्ता हितेश वाजपेयी ने कहा, ‘यह बेहद दुखद घटना है, मामले की निष्पक्ष जांच होगी.

अगली खबर

दो बच्चे के पिता ने 7 साल की बच्ची के साथ किया रेप, बच्ची की हालत नाजुक

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है जहां पर एक युवक ने 7 साल की बच्ची के साथ रेप किया है. युवक का नाम विकास कुमार है जो कि मिठनपुरा का रहने वाला है. आरोपी की गिरफ्तारी हो गई है. आरोप स्वीकार्य करते हुए कहा कि मैं नशे के हालत में था इसलिए ये घटना हो गया. मैं होश में नहीं था, मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था. महिला थाना की पुलिसकर्मी स्नेही ने बताया कि आरोपी की गिरफ्तारी उसके घर से हो गई है. आरोपी दो बच्चे का पिता है. उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया है. उसे जेल भेजा जा रहा है.

तीन दिन पूर्व की घटना

आरोपी तीन दिन पहले एक शादी समारोह में गया था. जिस बच्ची के साथ रेप हुआ है उसके मौसा के साथ शादी में शामिल हुआ. शादी के दौरान युवक ने बच्ची को कोल्ड ड्रिंक पिलाने का झांसा देकर उसे बाइक पर बैठाकर घर के बाहर सुनसान झाड़ियों में ले गया और बच्ची के साथ रेप किया. बच्ची ने चिल्लाने की कोशिश की तो उसकी आवाज दबाकर उसके साथ जबरन रेप करते रहा. उसके बाद बच्ची को वही छोड़कर भाग गया. पीड़ित बेहोशी की हालात में पाई गई जहां पर दरिंदा ने रेप किया था. बच्ची अस्पताल में भर्ती है परिजनों ने बताया कि प्राइवेट पार्ट में काफी ब्लीडिंग हो गई है. आनन-फानन में पहले PHC में प्राथमिक इलाज करवाया गया है उसके बाद डॉक्टर ने SKMCH रेफर कर दिया. फिलहाल बच्ची SKMCH में भर्ती है. जहां पर उसका इलाज चल रहा है, स्थित काफी नाजुक बताई जा रही है. वहीं स्थानीय लोगों इसे लेकर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी भी की है. लोगों ने आक्रोश जताते हुए कहा कि क्षेत्र में क्राइम की घटना में काफी वृद्धि हो गई है. प्रशासन घटना होने का इंतजार करती है.

अगली खबर

रोहतास: अगरेर खुर्द दलित हत्याकांड के मुख्य आरोपी गिरफ्तार, 21 दिन बाद पुलिस को मिली सफलता

Agar Khurd Dalit Murder Case

रोहतास पत्रिका/सूर्यपुरा: सूर्यपुरा थाना अंतर्गत अगरेर खुर्द गांव में 20 मार्च को आपसी विवाद में एक युवक की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। हत्या के बाद मामले के आरोपी फरार चल रहे थे। अब हत्याकाण्ड के 21 दिन बाद सोमवार को पुलिस को मुख्य आरोपी को गिरफ्तार करने में सफलता मिली है। मिली जानकारी के अनुसार अभियुक्त ब्रिज भूषण पांडे को पुलिस ने बिक्रमगंज थाना क्षेत्र से जांच के लिए गठित एसआईटी ने गिरफ्तार किया है।

घटना में प्रयुक्त हथियार अभी भी पुलिस के पहुँच से बाहर, नहीं हुआ आर्म्स लाइसेंस रद्द

घटना के बाद मामले की पुष्टि करते हुए पुलिस अधीक्षक आशीष भारती ने बताया था कि दलितों पर गोलीबारी करने में प्रयुक्त हथियार लाइसेंसी है या अवैध इसकी जांच की जा रही है। जांच में पता चला कि जिस हथियार से गोलीबारी हुई थी वह हथियार लाइसेंसी और उसकी लाइसेंस रद्द करने की अनुशंसा की गई है। जब इस संबंध में बिक्रमगंज एसडीपीओ से बात किया गया तो पता चला की हथियार का लाइसेंस घटना के 21 दिन बीत जाने के बाद भी रद्द नहीं किया है।

मृतक की पत्नी ने कराई थी प्राथमिकी दर्ज

मृतक राजदेव पासवान की पत्नी इंदु देवी ने स्थानीय सूर्यपुरा थाना में गांव के ही 8 दबंगों पर प्राथमिकी दर्ज कराई थी। सूर्यपुरा थानाध्यक्ष सुसंत कुमार ने धारा 147/148/149/341/323/447/307/302/504, 27 आर्म्स एक्ट एवं एससी/एसटी एक्ट के तहत कांड संख्या 32/22 दर्ज किया था। इस कांड में कुल 8 लोगों को नामजद किया गया था जिसमें अगरेर खुर्द निवासी भैया राम पांडे के पुत्र बृज भूषण पांडे, चंद्र भूषण पांडे एवं राज भूषण पांडे, स्व जय गोविंद पांडे के पुत्र भैया राम पांडे, बृज भूषण पांडे का पुत्र विकास पांडे, श्रीकांत दुबे का पुत्र सौरभ दुबे उर्फ किस्तु दुबे, रंगनाथ पांडे का पुत्र अभय पांडे एवं कमलेश पांडे का पुत्र संजीव पांडे शामिल है।

दिन-दहाड़े दो लोगों को मारी गई थी गोली, एक की हुई थी मौत

सूर्यपुरा थाना क्षेत्र के अगरेर खुर्द गांव में उक्त विवाद में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गई है। एक अन्य व्यक्ति को भी गोली लगी थी, लेकिन उसकी जान बच गई थी। ग्रामीण बताते है कि आपसी विवाद में झगड़ा बढ़ गया और कुछ लोगों द्वारा दिनदहाड़े फायरिंग की जाने लगी थी। जिसमें राजदेव पासवान एवं संतोष पासवान को गोली लग गई। राजदेव की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि संतोष को बिक्रमगंज के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

3 दिनों से जारी तनाव ने लिया खूनी रूप

स्थानीय लोग बताते है कि 17 मार्च को अगरेर खुर्द गांव में नाली के ऊपर रखा पत्थर का स्लैब नाली में गिर गया था। उस स्लैब को निकाल कर हटाने को लेकर विवाद हो गया। तब गांव के दबंगों ने नींबू राम की पिटाई कर दी। उसी विवाद में 20 मार्च को भी दोनों पक्षों में नोंक-झोक हुआ। इसके बाद गांव के ही दबंगों के पक्ष से ताबड़तोड़ फायरिंग होने लगी जिसमें राजदेव पासवान और संतोष पासवान को गोली लग गई थी।

अगली खबर

बिहार: शांतिपूर्ण संपन्न हुआ विधानसभा उपचुनाव, 52.38 प्रतिशत हुआ मतदान

bihar byelection 2022

रोहतास पत्रिका/पटना: गोपालगंज और मोकामा विधानसभा सीट पर कराए जा रहे उपचुनाव शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हो गया। दोनों सीटों पर कुल 52.38 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। वहीं इस मौके पर सुरक्षा के पुख्ता इंतेजाम किया गया था। बिहार निर्वाचन आयोग के मुताबिक, मोकामा और गोपालगंज उपचुनाव में खबर लिखे जाने तक कुल 52.38 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले है। विभाग अनुसार मतदान प्रतिशत में और वृद्धि हो सकती है।

मोकामा में हुए सबसे अधिक मतदान

बिहार चुनाव आयोग के अनुसार मोकामा विधानसभा सीट के लिए सबसे अधिक 53.45 प्रतिशत मतदान हुआ जबकि गोपालगंज सीट के लिए 51.48 प्रतिशत वोटिंग हुई है। पूरे मतदान के दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतेजाम किया गया था जिसके कारण एक-दो इलाकों में छिटपुट घटनाओं को छोड़कर कही से भी बड़ी अप्रिय घटना की अबतक सूचना नहीं मिली है।

मतदान के लिए बनाए गए थे 619 मतदान केंद्र

मोकामा और गोपालगंज विधानसभा सीट के लिए कराए जा रहे उपचुनाव के लिए कुल 619 मतदान केंद्र बनाए गए, जिसमें गोपालगंज में 330 मतदान केंद्र और मोकामा में 289 मतदान केंद्र बनाए गए थे। आपको बता दूँ कि मोकामा विधानसभा सीट से 6 प्रत्याशी तो गोपालगंज विधानसभा सीट से 9 प्रत्याशी मैदान में है। मोकामा विधानसभा क्षेत्र में कुल मतदाताओं की संख्या 281251 है जबकि गोपालगंज विधानसभा में 331469 मतदाता हैं।

महागठबंधन और भाजपा के बीच टक्कर

बिहार में सरकार बदलने के बाद यह पहला उपचुनाव हो रहा है। इस चुनाव को राजनीतिक दृष्टिकोण के मुताबिक दोनों सीटों पर पर मुख्य मुकाबला महागठबंधन और भाजपा के बीच माना जा रहा है। गोपालगंज में भाजपा के विधायक और बिहार सरकार के पूर्व सहकारिता मंत्री सुबाष सिंह का असामयिक निधन होने से यह सीट रिक्त हो गई थी। वहीं, मोकामा के तत्कालीन विधायक अनंत सिंह को अवैध हथियार रखने के मामले में सजा होने के बाद उनकी विधानसभा सदस्यता खत्म हो गई थी। मोकामा में अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी तो गोपालगंज में सुबाष सिंह की पत्नी कुसुम देवी मैदान में हैं।

अगली खबर

शहर की समस्यों को किया जाएगा दूर, महिलाओं के लिए विशेष सुविधा का होगा प्रावधान: सत्यवंती देवी

nagar nigam election

रोहतास पत्रिका/सासाराम: नगर निगम चुनाव को लेकर गतिविधियां पूरी तेज हो गई है। अब अभ्यर्थी पूरी तरह से मैदान में उतर चुके हैं और कोई भी मौका नहीं छोड़ना चाहते हैं। चुनाव में विभिन्न मुद्दों को लेकर अभ्यर्थी लोगों के पास पहुंच रहे हैं और शहर को नया रूप देने के लिए वचनबद्ध भी हो रहे हैं। नगर निगम चुनाव को लेकर रविवार को माइको पर सासाराम नगर निगम के डिप्टी मेयर प्रत्याशी सत्यवंती देवी ने प्रेस वार्ता का आयोजन किया।

इस दौरान पत्रकारों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सासाराम नगर निगम में महिलाओं की जो समस्या है वह महिलाओं से मिलने के बाद भी प्रतीत हुआ है। उन्होंने कहा कि जहां भी वो जा रही है महिलाएं उन्हें अपनी समस्याओं से अवगत करा रही हैं और उस समस्याओं को दूर करने के लिए आग्रह कर रही है। उन्होंने कहा कि आज महिलाओं के लिए शहरी क्षेत्रों में एक भी शौचालय नहीं है इसलिए मेरे एजेंडे में सर्वप्रथम महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों के लिए डीलक्स शौचालय का निर्माण करवाना मुख्य है। इसके अलावा महिलाओं को उद्यमी बनाने के लिए जो भी सरकार की योजनाएं चलाई रही है उसका लाभ उन्हें दिलवाना होगा।

उन्होंने कहा कि सासाराम ऐतिहासिक शहर है और इसके इतिहास को संजोए रखना हम सभी का कर्तव्य होता है। ऐसे में सबसे पहले ऐतिहासिक धरोहरों को विश्व पटल पर लाने में कार्य किया जाएगा और शहर की जो सबसे बड़ी समस्या जल निकासी और गंदगी है उसे दूर किया जाएगा ताकि हमारे ऐतेहासिक धरोहरों को देखने के लिए जब कोई व्यक्ति अन्य राज्यों से आए तो वह शहर की स्थिति देख कर गर्व महसूस करें। सत्यवंती देवी ने कहा कि चुनावी भ्रमण के दौरान गरीब घरों में शिक्षा की कमी दिखी।

गरीब परिवारों के बच्चों को खासकर लड़कियों को शिक्षा से जोड़ने का कार्य किया जाएगा ताकि लड़कियां पढ़ाई कर अपना भविष्य संवार सकें। इसके लिए सरकारी स्कूलों को सुदृढ़ किया जाएगा और शहरी क्षेत्रों में लाइब्रेरी की व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा बच्चों के साथ-साथ बड़ों के लिए मनोरंजन पार्क का भी निर्माण करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि लोगों का सहयोग रहा तो हमारा सासाराम बदलेगा और शहर के लोग खुद को गौरवान्वित महसूस करेंगे। मौके पर पूर्व सासाराम नगर परिषद के उप मुख्य पार्षद चंद्रशेखर सिंह भी मौजूद रहे।

अगली खबर

जाति आधारित जनगणना का विरोध BJP करेगा तो टूट जाएगा NDA का गठबंधन : BJP थिंक टैंक

रोहतास पत्रिका/पटना: बिहार में जातिगत जनगणना को लेकर सभी पार्टियों की सहमति बन गई है. इस बात की जानकारी शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने दी. शिक्षा मंत्री ने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री ने पहले ही बता दिया है कि जाति आधारित जनगणना पर जल्द ही पटना में एक बैठक होगी. मंत्री ने स्पष्ट करते हुए बताया कि बिहार सरकार ने एक जून (बुधवार) को पटना में जाति आधारित जनगणना के मुद्दे पर सर्वदलीय बैठक करने का फैसला किया है. इस तारीख पर सभी दलों ने अपनी सहमति जताई है. आगे चौधरी ने कहा कि बैठक का स्थान 4 देश रत्न मार्ग, पटना में शाम करीब 4 बजे आयोजित होगा. वही बैठक में सभी पार्टियों के शीर्ष नेताओं का आगमन तय माना जा रहा है.

सभी पार्टियों की सहमति

27 मई को हुई बैठक को लेकर नीतीश कुमार ने सकारात्मक संकेत दिए थे. बिहार में भारतीय जनता पार्टी (BJP) को छोड़कर RJD, JDU, कांग्रेस, वाम दल, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (एचएएम) और अखिल भारतीय मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) सहित सभी दलों ने जाति-आधारित जनगणना पर सहमति व्यक्त की. भाजपा अपने केंद्रीय नेतृत्व के रुख पर अड़ी हुई थी, जिसने देश में जाति आधारित जनगणना नहीं करने का फैसला किया था हालांकि अब बीजेपी की रूख में हल्की नरमी देखी जा रही है.

BJP की असहमति से टूट जाएगी गठबंधन

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जाति आधारित जनगणना कराने के अपने फैसले पर अडिग हैं. BJP थिंक टैंक का मानना ​​है कि अगर वे बिहार में जाति आधारित जनगणना का विरोध करेंगे तो सीएम नीतीश कुमार बीजेपी से गठबंधन तोड़ सकते हैं और राजद की मदद से बिहार में सरकार बना सकते हैं. नीतीश कुमार और तेजस्वी की बढ़ती नजदीकियों से BJP परेशान दिख रही है. भाजपा को डर सता रहा कि गठबंधन ना टूटे, इसी को ध्यान में रखते हुए पार्टी ने अपनी सहमति जताई है. आपको बता दें, प्रधानमंत्री ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि राज्य अपने खर्च पर जाति आधारित जनगणना करने के लिए स्वतंत्र हैं.

अगली खबर

“नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव के बीच बढ़ी नज़दीकियां तो CBI ने लालू यादव के आवास पर मार दी रेड” – RJD विधायक मुकेश रौशन

बिहार के पूर्व मुखिया लालू प्रसाद के घर तड़के सुबह CBI की टीम ने रेड मारी है. पटना और दिल्ली समेत 17 ठिकानों पर छापेमारी जारी है. टीम ने बताया कि रेलवे भर्ती बोर्ड में हुई गड़बड़ी को लेकर कार्रवाई हुई है. पटना, दिल्ली और गोपालगंज समेत कई जगहों पर रेड जारी है. घर के सदस्यों को अलग-अलग कमरे में बैठाकर पूछताछ की जा रही है. वहीं दिल्ली में मिसा भारती के घर पर CBI के बड़े अधिकारी पहुंचे है.

तेज प्रताप यादव को बैठाया पेड़ के नीचे

CBI की टीम पहुंचते ही RJD के कार्यकर्ताओं ने घर के बाहर प्रदर्शन करना शुरु कर दिया है. धरने पर बैठे कई RJD के नेताओं ने कहा कि ये बदले की राजनीति है. सरकार हमारे नेता लालू यादव जी को परेशान करने में लगी है लेकिन हम चुप बैठने वाले नहीं है. वहीं टीम ने तेज प्रताप को पेड़ के नीचे बैठा दिया था. इसके बाद तेज प्रताप ने बिना कुछ कहे चुपचाप पेड़ के नीचे बैठे रहें. 10 सर्कुलर रोड स्थित आवास पर CBI की 8 सदस्यीय अफसरों में महिला कर्मचारी भी छानबीन के लिए पहुंची है. आवास में किसी को अंदर बाहर जाने पर रोक लगा दिया गया है. टीम सभी दस्तावेजों को खंगाल रही है. वहीं राबड़ी देवी से पूछताछ करने की खबरें आ रही हैं.

पुरा मामला क्या है?

आपको बता दे कि 2004 से 2009 के बीच लालू प्रसाद यादव रेलमंत्री थे इसी बीच रेलमंत्री ने नौकरी देने के बदले जमीन और कई प्लॉट लिए. इसी आरोप को लेकर एक नया केस दर्ज हुआ है, जिसे लेकर CBI की टीम जांच में लगी है. ये केस लालू यादव और उनकी बेटी मिसा भारती पर हुई है. इधर, RJD के विधायक मुकेश रौशन ने कहा कि RJD और JDU के नजदीकियों से BJP परेशान हो गई है इसलिए छापेमारी करवा रही हैं. इस समय लालू यादव की तबीयत खराब है, उनका इलाज अस्पताल में चल रहा है और तेजस्वी यादव भी शहर से बाहर है.ऐसे समय में रेड मारना उचित नहीं है.

अगली खबर

विशेष: राजनीति के ‘चौधरी’ कहे जाने वाले नेता की जयंती से जुड़ा है ‘किसान दिवस’ का इतिहास, जानिए सबकुछ

Chaudhary charan singh

रोहतास पत्रिका/नई दिल्ली:

हर साल 23 दिसंबर को देश में ‘राष्ट्रीय किसान दिवस’ मनाया जाता है, लेकिन इस बार ये किसान आंदोलन की वजह से मुख्य केंद्र बिंदु बना हुआ है। बीजेपी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों को लेकर पूरे देश में जगह-जगह विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं। एक कृषि प्रधान देश होने के नाते भारत की बहुसंख्यक आबादी खेती से जुड़ी है। चलिए इस बहुसंख्यक आबादी से जुड़े ‘किसान दिवस’ के इतिहास पर नजर डालते हैं और आज के परिपेक्ष्य में समझने की कोशिश करते हैं।

किसान दिवस मनाए जाने का प्रमुख कारण देश में किसानों की प्राथमिकता को महत्व देना एवं उनके हित में चलाई गई योजनाओं के बारे में किसानों को परिचित कराना है। किसान दिवस पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह के जन्मदिन पर मनाया जाता है। 23 दिसंबर 1902 को जन्मे चौधरी चरण ने किसानों के हित में अनेक कदम उठाए थे। बता दें इनका कार्यकाल भारत के पांचवे पीएम के रूप में जुलाई 1979 से जनवरी 1980 तक रहा था। इनके प्रधानमंत्री रहते ही नई दिल्ली में 23 दिसंबर 1978 को ‘किसान ट्रस्ट’ की स्थापना हुई थी।

ऐसे बने थे राजनीति के ‘चौधरी’

चौधरी चरण सिंह पहली बार 1937 में विधायक चुने गए थे। जिन्हें 1977 तक छपरौली-बागपत से विधायक बने रहने का मौका मिला। 1967 में कांग्रेस छोड़कर चौधरी चरण ने अपनी नई पार्टी बना ली थी। ‘भारतीय क्रांति दल’ के नाम से बनी इस पार्टी को उस समय के नेता राममनोहर लोहिया का साथ मिला। किसानों से उनका लगाव और बदलते राजनीतिक समीकरण के वजह से उन्हें पहली बार यूपी में गैर कांग्रेसी पार्टी की सरकार का अगुवाई करने का मौका मिला, और वो यूपी के मुख्यमंत्री बन गए। 1967 से 1970 तक सीएम के पद पर उन्होंने कार्य किया। उन्होंने ही अपने कार्यकाल के दौरान जमींदारी प्रथा को खत्म कर किसानों को बड़ी राहत पहुँचाई थी। खाद पर से सेल्स टैक्स भी हटा लिया था।

राजनीतिक व्यक्तित्व के जयंती पर मनाए जा रहे किसान दिवस में आज देश का किसान खुद राजनीति के दिग्गजों के बुने जाल में फंसता जा रहा है। देश के बहुसंख्यक आबादी का एक वर्ग इन ठंडी हवाओं को बर्दाश्त कर दिल्ली से सटे बॉर्डर पर अपनी मांग को लेकर अड़ा हुआ है और सरकार इसके फायदे गिना रही है।

अगली खबर

रोहतास: जिले के दो युवाओं ने पास किया फॉरेन मेडिकल ग्रैजुएट्स एग्जामिनेशन

Health

रोहतास पत्रिका/सासाराम: रोहतास जिले के युवाओं में प्रतिभा की कमी नहीं है, अगर मौका मिले तो यहाँ के युवा देश ही नहीं विदेश में भी अपने जिले व राज्य का झंडा गाड़ सकते हैं। खेल का क्षेत्र हो या फिर शिक्षा का क्षेत्र सभी में रोहतास जिले के युवा नाम रौशन कर रहे हैं। कुछ ऐसा ही कर दिखाया है सासाराम प्रखंड के अगरेड पंचायत अंतर्गत झलखोरिया गांव निवासी राजू कुशवाहा के पुत्र डॉक्टर ऋषिकेश आनंद मौर्या एवं तिलौथू प्रखंड के पतलूका पंचायत अंतर्गत पतलुका गांव के राम प्रयाग सिंह के पुत्र डॉ अजीत कुमार ने।

बता दे कि दोनों युवकों ने मेडिकल काउंसलिंग ऑफ इंडिया स्क्रीनिंग टेस्ट के प्रथम प्रयास में ही सफलता हासिल कर लिया है। बताते चलें कि मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया स्क्रीनिंग टेस्ट को फॉरेन मेडिकल ग्रैजुएट्स एग्जामिनेशन (एफएमजीई) के नाम से भी जाना जाता है। यह टेस्ट वैसे मेडिकल के छात्रों के लिए जरूरी हो जाता है जो दूसरे देशों में रहकर मेडिकल की पढ़ाई पूरी करते हैं। भारत में प्रैक्टिस करने के लिए मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया स्क्रीन टेस्ट को पास करना होता है।

उसके बाद ही भारत में प्रैक्टिस के लिए अनुमति प्रदान की जाती है। बता दे कि झलखोरिया ग्राम निवासी ऋषिकेश आनंद मौर्या ने जलालाबाद स्टेट यूनिवर्सिटी तकिर्गिस्तान से एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी किया है, तो वही पतलूका निवासी राम प्रयाग सिंह के पुत्र अजीत कुमार ने एमबीबीएस की पढ़ाई पोस्ट स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी किर्गिस्तान से किया है। दोनों युवकों की प्रारंभिक पढ़ाई रोहतास जिले से ही हुई है। जबकि दोनों ने एमबीबीएस की पढ़ाई किर्गिस्तान से पूरा किया है।

वहीं दोनों युवकों द्वारा एमसीआई क्वालीफाई करने के बाद उनके परिवार और गांव में खुशी का माहौल देखा जा रहा है। मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया स्क्रीनिंग टेस्ट में 186 अंक लाने वाले झलखोरिया के ऋषिकेश आनंद मौर्या ने बताया कि वह भारत के अच्छे मेडिकल कॉलेज से प्रैक्टिस करने के बाद अपने होमटाउन में बसना चाहते हैं और अपने जिले के लोगों की सेवा करना चाहते हैं।

अगली खबर

रोहतास: डिवाईडर से टकराया ऑटो, परिक्षार्थी घायल

रोहतास पत्रिका/सासाराम: शिवसागर थाना क्षेत्र स्थित मोरसराय गांव के पास पुरानी जीटी रोड सड़क मार्ग के बीच में बने डिवाईडर से अनियंत्रित ऑटो के टकरा जाने के कारण उसमें बैठा एक इंटर का परिक्षार्थी घायल हो गया, आनन-फानन में आसपास के लोगों द्वारा घायल युवक को उक्त ऑटो से ही ईलाज के लिए सासाराम सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। जानकारी के अनुसार घायल परिक्षार्थी चेनारी थाना क्षेत्र के चंद्रकैथी गांव निवासी अम्बिका पासवान का पुत्र हेमंत कुमार बताया गया है।

घायल परिक्षार्थी अपने गांव चन्द्रकैथी से ऑटो पर सवार होकर इंटरमीडिएट का परीक्षा देने के लिए सासाराम आ रहा था, तभी अचानक मोरसराय गांव के पास अनियंत्रित होकर ऑटो डिवाइडर से टकरा गया। जिसमें युवक परिक्षार्थी गंभीर रूप से घायल हो गया। स्थानीय लोगों की मदद से घायल को सासाराम सदर अस्पताल भर्ती कराया। घायल युवक को सासाराम सदर अस्पताल में प्राथमिक ईलाज कर बेहतर ईलाज के लिए घायल को रेफर कर दिया गया ।

अगली खबर

रोहतास: कुष्ठ से पीड़ित लोगों की पहचान व जागरूकता लिए चलाया जा रहा अभियान

रोहतास पत्रिका/सासाराम: कुष्ठ के प्रति लोगों की गलत धारणा को दूर करने के साथ कुष्ठ बीमारी को जड़ से मिटाने के लिए सरकार द्वारा लगातार अभियान चलाया जा रहा है। इसी के तहत 1 से 13 फरवरी तक कुष्ठ पखवाड़ा मनाया जा रहा है। इसके तहत जिले के विभिन्न प्रखंडों में आशाकर्मी एवं स्वास्थ्य कर्मी अपने अपने कार्य क्षेत्र में घूम घूम कर लोगों को कुष्ठ के प्रति जागरूक कर रहे है। साथ ही लोगों की कुष्ठ के प्रति फैली नकरात्मक सोच को बदलने की कोशिश की जा रही है।

पखवाड़ा के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा कि कुष्ठ रोग छूने ने नहीं फैलता है। समय से इसकी पहचान कर इलाज कराने से दिव्यांग होने से बचा जा सकता है। इधर जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में भी कुष्ठ को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें कुष्ठ से पीड़ित लोगों की प्रति घृणा न करते हुए उन लोगों को मुख्य धारा से जोड़ने का संकल्प दिलवाया जा रहा है।

जनप्रतिनिधियों के सहयोग से चलाया जा रहा जागरूकता अभियान

13 फरवरी तक चलने वाले कुष्ठ पखवाड़ा में पंचायत एवं गाँव स्तर पर चलने वाले जागरूकता अभियान में स्वास्थ्यकर्मी जनप्रतिनिधियों का सहयोग लेकर भी कुष्ठ के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे । साथ ही साथ साथ अपने क्षेत्र में जनप्रतिनिधि भी अपने स्तर से लोगों को जागरूक करेंगे और लोगों को बताएंगे कि कुष्ठ छुआछूत की बीमारी नहीं है। इसे इलाज से ठीक भी किया जा सकता है।

जिले में 364 कुष्ठ पीड़ित इलाजरत

जिला कुष्ठ नियंत्रण केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार रोहतास जिले में वर्तमान में 364 लोगों का इलाज जारी है। इसकी जानकारी देते हुए कुष्ठ नियंत्रण केंद के सहायक चिकित्सक जय प्रकाश राजभर ने बताया कि जिले में कुष्ठ के लगातार मरीज मिल रहे औऱ उनका इलाज जारी है। कुष्ठ को लेकर अभी भी लोगों में जागरूकता का अभाव है। जिस वजह से यह बीमाती कुष्ठ से पीड़ित लोगों को दिव्यांग बना देती है। उन्होंने बताया कि कुष्ठ का लक्षण एवं पहचान जरूरी है।

हाथ पैर की अंगुलियों में अचानक आये परिवर्तन एवं शरीर के किसी भी हिस्से में सूनापन व अचानक दाग धब्बा दिखाई दे तो इसे नजरंदाज न करें क्यों कि यह कुष्ठ के भी लक्षण हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि यदि इस तरह के लक्षण दिखाई दे तो तत्काल नजदीक के अस्पताल में संपर्क करें।

चलाया जा रहा स्पर्श लेप्रोसी जागरूकता अभियान

जिला कुष्ठ पदाधिकारी सह एसीएमओ डॉ अशोक कुमार ने बताया कि कुष्ठ रोग को लेकर लोगों में अभी भी कई भ्रांतियां फैली हुई हैं । इस वजह से कुष्ठ से पीड़ित लोग अस्पताल तक नहीं पहुंच पाते हैं। भ्रांतियों को तोड़ने के लिए स्पर्श लेप्रोसी अभियान के तहत लोगों को जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस जागरूकता के माध्यम से जिले में कुष्ठ के छुपे हुए लोगों की पहचान हो पाएगी।

एसीएमओ ने लोगों से अपील की है कि कुष्ठ लक्षण दिखाई देने पर तत्काल नजदीकी सरकारी अस्पतालों में संपर्क करें। उन्होंने बताया कि कुष्ठ बीमारी को ठीक करने के लिए जिला स्वास्थ्य समिति लगातार प्रयासरत है। उन्होंने बताया कि कुष्ठ पीड़ित रोगियों को जिला कुष्ठ निवारण केंद्र में नि:शुल्क जांच के साथ-साथ नि:शुल्क दवाइयां एवं किट उपलब्ध कराए जाते हैं। साथ ही कुष्ठ से पीड़ित मरीजों को सरकार द्वारा प्रतिमाह सहायता राशि भी प्रदान की जाती है।

अगली खबर

सासाराम: हाइटेक सुविधाओं से लैस प्रकाश लाइब्रेरी का उद्घाटन

Prakash Liberary

रोहतास पत्रिका/सासाराम: स्थानीय बौलिया रोड स्थित नूरनगंज में प्रकाश लाइब्रेरी का उद्घाटन किया गया। लाइब्रेरी का उद्घाटन सासाराम नगर निगम के नवनिर्वाचित मेयर काजल कुमारी ने फीता काटकर किया। इस अवसर पर मेयर काजल कुमारी ने कहा कि जीवन स्तर में बदलाव और अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए हमें शिक्षित होना बहुत जरूरी है। आज बगैर शिक्षा के हम लोग अच्छी नौकरी की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं, और ना ही अच्छे समाज की कल्पना कर सकते हैं, इसलिए शिक्षा हम सबका अधिकार है।

उन्होंने कहा कि रोहतास जिला शिक्षा के लिए जाना जाता है और यहां के छात्र-छात्राएं देश के सभी राज्यों में नौकरी कर अपने शिक्षा और ज्ञान का लोहा मनवा रहें हैं। ऐसे में शिक्षा को और बेहतर करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि लाइब्रेरी एक ऐसा स्थान है जहां पर पढाई का बेहतर माहौल मिलता है। शहर में बहुत सारे निजी लाइब्रेरी है और बच्चे वहां से लाभान्वित हो रहे हैं। आने वाले समय में नगर निगम के द्वारा भी शहर के कई क्षेत्रों में बेहतर लाइब्रेरी की स्थापना किया जाएगा जहां प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए बेहतर सुविधा मुहैया कराई जाएगी।

लाइब्रेरी के संस्थापक शशि प्रकाश ने बताया कि लाइब्रेरी खोलने का मुख्य मकसद यहां के बच्चों को बेहतर माहौल देना है। इसी को देखते हुए बौलिया रोड में लाइब्रेरी की स्थापना की गई है, क्योंकि इस क्षेत्र में एक भी लाइब्रेरी नहीं है। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में लाइब्रेरी खुलने से छात्र-छात्राओं को फायदे होंगे। यह लाइब्रेरी पूरी तरह से वातानुकूलित और सुरक्षा की दृष्टि से सीसीटीवी कैमरा से लैस है। लाइब्रेरी में हाई-स्पीड इंटरनेट के अलावा प्रतियोगिता की तैयारी के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले प्रतियोगी किताबों का संग्रह, जिससे इस लाइब्रेरी में आने वाले छात्र-छात्राओं को सहूलियत होगी। इस मौके पर समाजसेवी विवेक कुमार उर्फ डब्ल्यू भैया सहित सैकड़ों लोग भी मौजूद रहे।

अगली खबर

मीट अप कार्यक्रम में क्रिएटर्स ने दिखाया जोश, बेस्ट भोजपुरी क्रिएटर बनी अंजली झा

Josh event

रोहतास पत्रिका/पटना। नंबर वन शर्ट वीडियो ऐप ‘जोश’ के द्वारा राजधानी पटना में इंफ्ल्यूएंसर और सेलिब्रिटी मीट अप कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमे यूपी, बिहार, बंगाल, महाराष्ट्र और झारखंड के जाने-माने सैकड़ों युवा क्रिएटरों ने भाग लिया। कार्यक्रम का उद्घाटन जोश के कम्युनिटी मैनेजर कौशल सिन्हा, सारेगामा म्यूजिक के बिहार हेड निशांत गुंजन, जोनल मीडिया ग्रुप के डायरेक्टर संजीव कुमार सिंह, वोर्टेक्स मेट्रो मीडिया से सचिन कुमार व रिंकू सिंह, भोजपुरी इंफ्ल्यूएंसर रुचि सिंह और अंजलि झा ने संयुक्त रूप से किया। कार्यक्रम में यूपी, बिहार, झारखंड के दर्जनों शहर से 120 से अधिक जोश क्रिएटरों ने भाग लिया।

Josh event
क्रिएटर को सम्मानित करते जोश ऑफिसियल एवं अन्य

कार्यक्रम में जोश ऐप के द्वारा अलग-अलग कटेगरी में बेहतर कंटेंट के लिए दस लोगों को सम्मानित किया गया। साथ ही 20 लोगों को कैंपेन में पार्टिसिपेट करने के लिए पुरुष्कृत किया गया। सारेगामा हम भोजपुरी के तरफ़ से 14 वीडियो क्रिएटर को कारवा मिनी और सारेगामा फ़ोन दिया गया। वहीं कार्यक्रम में विभिन्न तरह के प्रतियोगिताओं का भी आयोजन कराया गया जिसमें प्रत्येक विजेताओं को एक-एक हज़ार का शॉपिंग वाउचर दिया गया। कार्यक्रम का आयोजन वोर्टेक्स मेट्रो मीडिया ग्रुप द्वारा किया गया तथा कार्यक्रम को सफल बनाने में ग्रुप से जुड़ें लोगों का अहम योगदान रहा।

Josh event
कार्यक्रम में मौजूद रिंकू सिंह एवं भोजपुरी क्रीएटर रुचि सिंह

कार्यक्रम को संबोधित करते हए जोश के कम्युनिटी मैनेजर कौशल सिन्हा ने कहा कि जोश ऐप ने देश में अपना अलग स्थान बनाया है और नए क्रिएटरों को बेहतर प्लेटफार्म देने का प्रयास किया जा रहा है। जोश पने सभी क्रिएटर्स के लिए समर्पित है। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय भाषा में भोजपुरी नंबर एक के स्थान पर आता है और भोजपुरी भाषा में क्रिएटर ग्रोथ के अपार संभावना है, जोश इस बात को सुनिश्चित करता है की उसके क्रिएटर ऐप के माध्यम से नेम, फ़ेम और ब्रांड मोनेटिज़ेशन से कुछ पैसे भी कमा सकते है। जोश लाइव के माध्यम से क्रिएटर गिफ्ट अर्न कर सकते है, जिसे आने वाले कुछ दिनों में आप सीधे अपने बैंक खाता में प्राप्त कर सकते है।

Josh event
स्टेज पर डांस करते जोशीले क्रियटर्स

इस कार्यक्रम में कुंदन यादव को बेस्ट भोजपुरी डांसर, अंजलि झा को बेस्ट भोजपुरी क्रिएटर, भोजपुरिया रानी और भोजपुरिया राजा को बेस्ट भोजपुरी जोड़ी, रवीश कुमार को भोजपुरी टॉप अचीवमेंट मेल, एकता गुप्ता को भोजपुरी टॉप अचीवमेंट फीमेल, कृष्ण केशरी को भोजपुरी राइजिंग स्टार, सीखा सिंह को भोजपुरी राइजिंग स्टार फीमेल तथा प्रिंस सिंह को भोजपुरी कॉमेडी क्रिएटर ऑफ़ द ईयर का अवार्ड से सम्मानित किया गया।