Rohtas: डॉ कन्हाई महतो सहित पांच समाजसेवियों ने निक्षय मित्र बन टीबी मरीजों को लिया गोद

Nikshay Mitra

रोहतास पत्रिका/सासाराम: सदर अस्पताल स्थित जिला यक्ष्मा केंद्र में शनिवार को टीबी पीड़ित गरीब एवं जरूरतमंद पांच मरीजों के बीच निक्षय मित्र के तहत खाद्य सामग्री का वितरण किया गया। यक्ष्मा विभाग के डॉ कन्हाई महतो सहित डब्ल्यू एच ओ के बिहार मेडिकल कंसलटेंट डॉ राजीव एन सेथुमाधवन, रिदम पब्लिक स्कूल के निदेशक अरविंद कुमार, वार्ड 14 के वार्ड पार्षद बृजनंदन सिंह एवं समाजसेवी गोविंद कुमार ने निक्षय मित्र बनकर पांच टीबी मरीजों को गोद लिया है।

इनके द्वारा लगातार 6 महीने तक उक्त टीबी मरीज को पोषण आहार के रूप में खाद्य सामग्री उपलब्ध करायी जाएगी । इसी के तहत शनिवार को रोहतास के सिविल सर्जन की अध्यक्षता एवं जिला संचारी रोग पदाधिकारी डॉ राकेश कुमार की देख रेख में कुल पांच टीबी मरीजों में खाद्य सामग्री का वितरण किया गया। इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ के एन तिवारी ने कहा कि यह सरकार की अच्छी पहल है। यदि टीबी पीड़ित मरीजों को गोद लिया जाए और थोड़ी सहायता की जाए तो हमलोग जिले से टीबी बीमारी को मिटाने में अहम योगदान निभा सकते हैं। सिविल सर्जन से कहा कि टीबी मरीजों की रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी कम हो जाती है। ऐसे में दवा के साथ साथ सही पोषन मिले तो वो टीबी बीमारी से लड़ने में मदद करेगा।

सिविल सर्जन सहित अन्य लोगों ने नए टीबी मरीज को लिया गोद

निक्षय मित्र बन टीबी मरीजों को पोषण सहायता उपलब्ध कराने के बाद सिविल सर्जन डॉ के एन तिवारी ने भी एक नए टीबी मरीज को गोद लेने की घोषणा की । उन्होंने कहा कि वो भी एक टीबी मरीज को गोद लेकर पोषण आहार के रूप में खाद्य सामग्री उपलब्ध करायेंगे। वहीं कार्यक्रम में मौजूद यक्ष्मा विभाग के वरीय यक्ष्मा प्रयोगशाला पर्यवेक्षक ज्ञानेंद्र कुमार ने भी एक नए टीबी मरीज को गोद लेने की घोषणा की। इनलोगों के द्वारा आगामी 24 मार्च को विश्व यक्ष्मा दिवस के अवसर पर टीबी मरीजों को खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी।

कोई भी बन सकता है निक्षय मित्र

पोषण सहायता सामग्री वितरण कार्यक्रम में मौजूद जिला संचारी रोग पदाधिकारी डॉ राकेश कुमार ने बताया कि यक्ष्मा उन्मूलन को लेकर प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान की शुरुआत की गई है। इसके लिए सरकार द्वारा टीबी से पीड़ित मरीजों को पोषण के लिए सरकार द्वारा प्रतिमाह 500 की राशि प्रदान की जाती है। इसके अलावा सरकार द्वारा निक्षय मित्र कार्यक्रम भी चलाया जा रहा है। जिसके तहत समाज के सक्षम व्यक्तियों, जनप्रतिनिधियों, मुखिया, वार्ड पार्षद, विधायक, सांसद, सरकारी एवं निजी कार्यालय में कार्यरत लोग, एन जी ओ सहित सामाजिक कार्यकर्ता टीबी के मरीज को गोद ले कर उसके पोषण में सहयोग कर सकते है।

इस मौके पर सदर अस्पताल के मेडिकल ऑफिसर डॉ कन्हाई महतो, कार्यकारी अधीक्षक सदर अस्पताल डॉ श्री भगवान सिंह मौजूद रहे। वहीं इस कार्यक्रम को सफल बनाने में जिला यक्ष्मा केंद्र के डीईओ शेखर कुमार श्रीवास्तव, डीपीएस आदित्य आकाश, एसटीएलएस शाहिद एहसान के अलावा विभाग की सुधा कुमारी, ममता कुमारी, राहुल कुमार, अशोक कुमार, अतुल कुमार सिन्हा, संजय श्रीवास्तव, मुन्ना कुमार सिंह, भोला कुमार, आशीष श्रीवास्तव का अहम योगदान रहा।

ताज़ा खबरें

अगली खबर

रोहतास: हत्या के दो महीने बाद भी नहीं हो सका शवों का पहचान

dead bodies found in rohtas

जिले के करगहर व सासाराम मुफस्सिल थान क्षेत्र से बरामद हत्या कर फेंके गए महिला के शव की पहचान करने में पुलिस तंत्र विफल है। घटना के करीब दो माह के समय गुजरने के बाद भी पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगे हैं। ऐसे में घटना को अंजाम देने वाले अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार विगत आठ नवंबर को करगहर थाना क्षेत्र में सड़क से एक महिला का शव बरामद हुआ था। महिला को अपराधियों ने गोली मारकर मौत के घाट उतारा था। हत्या के बाद अपराधी सड़क पर महिला का शव फेंक भाग निकले थे। सड़क से गुजर रहे लोगों की सूचना पर पुलिस ने शव को बरामद किया था। लेकिन, शव बरामदगी के लंबे समय बीतने के बाद पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लग सका है। थाना से मिली जानकारी के अनुसार महिला की पहचान के लिए प्रयास चल रहा है। लेकिन, अभी तक कोई उपलब्धि नहीं मिली है।

वहीं एक दूसरी घटना सासाराम के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के मोहद्दीगंज से 13 नवम्बर को प्रकाश में आई थी। जहां एक तालाब में महिला का शव पुलिस ने बरामद किया था। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो महिला की हत्या के बाद शव को ठिकाने लगाने के लिए तालाब में फेंकने के दौरान भारी वस्तु बांधकर उसे डूबा दिया गया होगा। ऐसे में दो-तीन दिन बाद जब शव पानी में ऊपर आया, तो लोग देख सके। बहरहाल मामला जो भी हो मृतका की पहचान के बाद ही घटना का खुलासा होगा।

पुलिस तलाब से मिली महिला के शव की कोई जानकारी महीना दिन बाद भी नहीं जुटा सकी है। ऐसे में करगहर व मुफस्सिल थाना क्षेत्र से बरामद दो महिला शवों की पहचान वउसके मौत फाइलों में दब कर रह गई है। मुफस्सिल थानाध्यक्ष मो. रिजवान अहमद ने बताया कि शव की पहचान अब तक नहीं हो सकी है। वहीं करगहर थानाध्यक्ष रामविलास प्रसाद ने बताया कि हत्या कर फेंकी गई महिला का शव की पहचान में पुलिस जुटी है।

Source: Hindustan

अगली खबर

मोबाइल नहीं देने पर सीने में दाग दी गोली, युवक की हालत गंभीर

इन दिनों बिहार में मोबाइल चोरी, छिनतई अब आम बात हो गई है. हर जिलों से प्रतिदिन सैकड़ों इस तरह के केस आते हैं. क्राइम पर कोई रोक नहीं है.अपराधियों के भीतर कानून का भय खत्म होते जा रहा है. प्रदेश के भोजपुर जिले से ऐसी ही एक घटना सामने आई है. जहां एक युवक से जबरन मोबाइल छिनने की कोशिश की गई. जिले के कोईलवर थाना क्षेत्र के गीधा ओपी अंतर्गत सोनघट्टा मोड़ स्थित आलू कोल्ड स्टोर के समीप युवक से अपराधी मोबाइल छिन रहे थे. युवक ने जमकर विरोध किया. गिड़गिड़ाता रहा है, कहा कि हम गरीब है हमारे पास मोबाइल नहीं है लेकिन बदमाशों ने एक नहीं सुनी. मोबाइल नहीं देनेे पर युवक के ऊपर गोली चला दी. बदमाश एक अपाची बाइक से आए थे. लड़का पुरी तरह से घायल होकर उसी स्थान पर बेसुध हो गया. परिजनों को सूचना मिलते ही आनन-फानन में आरा शहर के बाबू बाजार स्थित निजी अस्पताल लाया गया. जहां पर युवक इलाज चल रहा है. डॉक्टर ने बताया कि गोली सीने में लगी है, ब्लड काफी बह चुका है. उसके सीने में टेस्ट ट्यूब लगाया जा रहा है. दो यूनिट ब्लड चढ़ाया जाएगा. डॉ.विकास सिंह ने आगे बताया कि स्थिति अभी नाजुक बनी है, युवक को कुछ दिनों तक ऑब्जर्वेशन में रखा जाएगा.

SP ने कहा कि बदमाशों को जल्द से जल्द पकड़ा जाएगा

घटना की सूचना मिलते ही SP सीधे अस्पताल पहुंच कर घायल से मिले. पुरी घटना की जानकारी लेते उन्होंने बताया कि घायल युवक कोइलवर थाना क्षेत्र के गीधा ओपी अंतर्गत सोनघट्टा गांव निवासी लाल मोहन पांडेय का पुत्र 19 वर्षीय अमन पांडे है. अमन दुध प्लांट में पैकिंग का काम करता है. हर रोज की तरह वो काम पर जा रहा था इसी दौरान घटना हो गई. अधीक्षक ने कहा कि हम इसे लुट-पाट की एंगल से ही जांच कर रहे हैं. उस जगह पर जो भी घटनाएं घटी है उसे लेकर जांच करेंगे ताकि अपराधियों को जल्द से जल्द से गिरफ्तार कर सकें. SP ने बताया कि हम लोगों से कोआर्डिनेशन बनाए ऱखे हुए जिससे लॉ एंड आर्डर बनी रहे. वही थाना इंचार्ज प्रवीण कुमार घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की छानबीन में जुट गए हैं.

 

अगली खबर

Aadhar Card नहीं दिखाने पर BJP नेता ने एक व्यक्ति की ली जान? सोशल साइट पर वीडियो वायरल

मध्य प्रदेश: सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. जिसमें एक युवक से आधार कार्ड नहीं दिखाने पर बेरहमी से पीटा जा रहा है. ये वीडियो मध्यप्रदेश के नीमच जिले की बताई जा रही है हालांकि इस वीडियो की पुष्टि रोहतास पत्रिका नही कर रहा है. वायरल वीडियो में बीजेपी पार्षद के पति दिनेश कुशवाहा को कथित तौर पर जैन की पिटाई करते हुए देखा जा रहा है और उसे आधार कार्ड मांग रहे हैं. बीजेपी नेता युवक से पुछ रहे हैं कि क्या तुम मुस्लिम हो?

वायरल वीडियो पर पुलिस ने क्या कहा?

सोशल मीडिया पर वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है. इस वीडियो में जिस व्यक्ति से आधार कार्ड मांगा जा रहा है. उसका नाम रतलाम के सरसी गांव निवासी 60 वर्षीय भंवरलाल जैन बताया जा रहा है. वहीं मानसा से भंवरलाल मृत स्थित में पाए गए. पुलिस ने शनिवार को सूचना दिया. सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने शनिवार को IPC की धारा 304 (लापरवाही से मौत) और 302 (हत्या) के तहत प्राथमिकी दर्ज की. मनासा थाना प्रभारी केएल डांगी ने बताया कि भंवरलाल जैन 18 मई को अपने परिवार के साथ चित्तौड़गढ़ गया था. उसके बाद में वह लापता हो गया. शुक्रवार को नीमच जिले के मनासा में उनका शव मिला. उन्होंने आगे कहा कि हम वीडियो की जांच कर रहे हैं. मामले में आरोपी के साथ वीडियो बनाने वाले के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी. इस मामले के बाद दिनेश कुशवाहा फरार हो गए हैं.

स्थानीय नेताओं ने बोला हमला

Congress के नेताओं ने BJP सरकार पर कई सवाल खड़े किए हैं. विधायक जीतू पटवारी ने कहा, ‘राज्य में कानून-व्यवस्था नहीं है और सिर्फ आधार कार्ड नहीं दिखाने पर एक व्यक्ति को पीट-पीट कर मार डाला गया. मुस्लिम, दलित और आदिवासी के बाद जैन पर हमले हुए. प्रदेश में कोई सुरक्षित नहीं है. इस मामले को लेकर गृह मंत्री अमित शाह जी को कुछ कहना चाहिए. वही BJP के प्रवक्ता हितेश वाजपेयी ने कहा, ‘यह बेहद दुखद घटना है, मामले की निष्पक्ष जांच होगी.

अगली खबर

दो बच्चे के पिता ने 7 साल की बच्ची के साथ किया रेप, बच्ची की हालत नाजुक

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है जहां पर एक युवक ने 7 साल की बच्ची के साथ रेप किया है. युवक का नाम विकास कुमार है जो कि मिठनपुरा का रहने वाला है. आरोपी की गिरफ्तारी हो गई है. आरोप स्वीकार्य करते हुए कहा कि मैं नशे के हालत में था इसलिए ये घटना हो गया. मैं होश में नहीं था, मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था. महिला थाना की पुलिसकर्मी स्नेही ने बताया कि आरोपी की गिरफ्तारी उसके घर से हो गई है. आरोपी दो बच्चे का पिता है. उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया है. उसे जेल भेजा जा रहा है.

तीन दिन पूर्व की घटना

आरोपी तीन दिन पहले एक शादी समारोह में गया था. जिस बच्ची के साथ रेप हुआ है उसके मौसा के साथ शादी में शामिल हुआ. शादी के दौरान युवक ने बच्ची को कोल्ड ड्रिंक पिलाने का झांसा देकर उसे बाइक पर बैठाकर घर के बाहर सुनसान झाड़ियों में ले गया और बच्ची के साथ रेप किया. बच्ची ने चिल्लाने की कोशिश की तो उसकी आवाज दबाकर उसके साथ जबरन रेप करते रहा. उसके बाद बच्ची को वही छोड़कर भाग गया. पीड़ित बेहोशी की हालात में पाई गई जहां पर दरिंदा ने रेप किया था. बच्ची अस्पताल में भर्ती है परिजनों ने बताया कि प्राइवेट पार्ट में काफी ब्लीडिंग हो गई है. आनन-फानन में पहले PHC में प्राथमिक इलाज करवाया गया है उसके बाद डॉक्टर ने SKMCH रेफर कर दिया. फिलहाल बच्ची SKMCH में भर्ती है. जहां पर उसका इलाज चल रहा है, स्थित काफी नाजुक बताई जा रही है. वहीं स्थानीय लोगों इसे लेकर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी भी की है. लोगों ने आक्रोश जताते हुए कहा कि क्षेत्र में क्राइम की घटना में काफी वृद्धि हो गई है. प्रशासन घटना होने का इंतजार करती है.

अगली खबर

रोहतास: अगरेर खुर्द दलित हत्याकांड के मुख्य आरोपी गिरफ्तार, 21 दिन बाद पुलिस को मिली सफलता

Agar Khurd Dalit Murder Case

रोहतास पत्रिका/सूर्यपुरा: सूर्यपुरा थाना अंतर्गत अगरेर खुर्द गांव में 20 मार्च को आपसी विवाद में एक युवक की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। हत्या के बाद मामले के आरोपी फरार चल रहे थे। अब हत्याकाण्ड के 21 दिन बाद सोमवार को पुलिस को मुख्य आरोपी को गिरफ्तार करने में सफलता मिली है। मिली जानकारी के अनुसार अभियुक्त ब्रिज भूषण पांडे को पुलिस ने बिक्रमगंज थाना क्षेत्र से जांच के लिए गठित एसआईटी ने गिरफ्तार किया है।

घटना में प्रयुक्त हथियार अभी भी पुलिस के पहुँच से बाहर, नहीं हुआ आर्म्स लाइसेंस रद्द

घटना के बाद मामले की पुष्टि करते हुए पुलिस अधीक्षक आशीष भारती ने बताया था कि दलितों पर गोलीबारी करने में प्रयुक्त हथियार लाइसेंसी है या अवैध इसकी जांच की जा रही है। जांच में पता चला कि जिस हथियार से गोलीबारी हुई थी वह हथियार लाइसेंसी और उसकी लाइसेंस रद्द करने की अनुशंसा की गई है। जब इस संबंध में बिक्रमगंज एसडीपीओ से बात किया गया तो पता चला की हथियार का लाइसेंस घटना के 21 दिन बीत जाने के बाद भी रद्द नहीं किया है।

मृतक की पत्नी ने कराई थी प्राथमिकी दर्ज

मृतक राजदेव पासवान की पत्नी इंदु देवी ने स्थानीय सूर्यपुरा थाना में गांव के ही 8 दबंगों पर प्राथमिकी दर्ज कराई थी। सूर्यपुरा थानाध्यक्ष सुसंत कुमार ने धारा 147/148/149/341/323/447/307/302/504, 27 आर्म्स एक्ट एवं एससी/एसटी एक्ट के तहत कांड संख्या 32/22 दर्ज किया था। इस कांड में कुल 8 लोगों को नामजद किया गया था जिसमें अगरेर खुर्द निवासी भैया राम पांडे के पुत्र बृज भूषण पांडे, चंद्र भूषण पांडे एवं राज भूषण पांडे, स्व जय गोविंद पांडे के पुत्र भैया राम पांडे, बृज भूषण पांडे का पुत्र विकास पांडे, श्रीकांत दुबे का पुत्र सौरभ दुबे उर्फ किस्तु दुबे, रंगनाथ पांडे का पुत्र अभय पांडे एवं कमलेश पांडे का पुत्र संजीव पांडे शामिल है।

दिन-दहाड़े दो लोगों को मारी गई थी गोली, एक की हुई थी मौत

सूर्यपुरा थाना क्षेत्र के अगरेर खुर्द गांव में उक्त विवाद में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गई है। एक अन्य व्यक्ति को भी गोली लगी थी, लेकिन उसकी जान बच गई थी। ग्रामीण बताते है कि आपसी विवाद में झगड़ा बढ़ गया और कुछ लोगों द्वारा दिनदहाड़े फायरिंग की जाने लगी थी। जिसमें राजदेव पासवान एवं संतोष पासवान को गोली लग गई। राजदेव की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि संतोष को बिक्रमगंज के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

3 दिनों से जारी तनाव ने लिया खूनी रूप

स्थानीय लोग बताते है कि 17 मार्च को अगरेर खुर्द गांव में नाली के ऊपर रखा पत्थर का स्लैब नाली में गिर गया था। उस स्लैब को निकाल कर हटाने को लेकर विवाद हो गया। तब गांव के दबंगों ने नींबू राम की पिटाई कर दी। उसी विवाद में 20 मार्च को भी दोनों पक्षों में नोंक-झोक हुआ। इसके बाद गांव के ही दबंगों के पक्ष से ताबड़तोड़ फायरिंग होने लगी जिसमें राजदेव पासवान और संतोष पासवान को गोली लग गई थी।

अगली खबर

बिहार: शांतिपूर्ण संपन्न हुआ विधानसभा उपचुनाव, 52.38 प्रतिशत हुआ मतदान

bihar byelection 2022

रोहतास पत्रिका/पटना: गोपालगंज और मोकामा विधानसभा सीट पर कराए जा रहे उपचुनाव शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हो गया। दोनों सीटों पर कुल 52.38 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। वहीं इस मौके पर सुरक्षा के पुख्ता इंतेजाम किया गया था। बिहार निर्वाचन आयोग के मुताबिक, मोकामा और गोपालगंज उपचुनाव में खबर लिखे जाने तक कुल 52.38 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले है। विभाग अनुसार मतदान प्रतिशत में और वृद्धि हो सकती है।

मोकामा में हुए सबसे अधिक मतदान

बिहार चुनाव आयोग के अनुसार मोकामा विधानसभा सीट के लिए सबसे अधिक 53.45 प्रतिशत मतदान हुआ जबकि गोपालगंज सीट के लिए 51.48 प्रतिशत वोटिंग हुई है। पूरे मतदान के दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतेजाम किया गया था जिसके कारण एक-दो इलाकों में छिटपुट घटनाओं को छोड़कर कही से भी बड़ी अप्रिय घटना की अबतक सूचना नहीं मिली है।

मतदान के लिए बनाए गए थे 619 मतदान केंद्र

मोकामा और गोपालगंज विधानसभा सीट के लिए कराए जा रहे उपचुनाव के लिए कुल 619 मतदान केंद्र बनाए गए, जिसमें गोपालगंज में 330 मतदान केंद्र और मोकामा में 289 मतदान केंद्र बनाए गए थे। आपको बता दूँ कि मोकामा विधानसभा सीट से 6 प्रत्याशी तो गोपालगंज विधानसभा सीट से 9 प्रत्याशी मैदान में है। मोकामा विधानसभा क्षेत्र में कुल मतदाताओं की संख्या 281251 है जबकि गोपालगंज विधानसभा में 331469 मतदाता हैं।

महागठबंधन और भाजपा के बीच टक्कर

बिहार में सरकार बदलने के बाद यह पहला उपचुनाव हो रहा है। इस चुनाव को राजनीतिक दृष्टिकोण के मुताबिक दोनों सीटों पर पर मुख्य मुकाबला महागठबंधन और भाजपा के बीच माना जा रहा है। गोपालगंज में भाजपा के विधायक और बिहार सरकार के पूर्व सहकारिता मंत्री सुबाष सिंह का असामयिक निधन होने से यह सीट रिक्त हो गई थी। वहीं, मोकामा के तत्कालीन विधायक अनंत सिंह को अवैध हथियार रखने के मामले में सजा होने के बाद उनकी विधानसभा सदस्यता खत्म हो गई थी। मोकामा में अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी तो गोपालगंज में सुबाष सिंह की पत्नी कुसुम देवी मैदान में हैं।

अगली खबर

शहर की समस्यों को किया जाएगा दूर, महिलाओं के लिए विशेष सुविधा का होगा प्रावधान: सत्यवंती देवी

nagar nigam election

रोहतास पत्रिका/सासाराम: नगर निगम चुनाव को लेकर गतिविधियां पूरी तेज हो गई है। अब अभ्यर्थी पूरी तरह से मैदान में उतर चुके हैं और कोई भी मौका नहीं छोड़ना चाहते हैं। चुनाव में विभिन्न मुद्दों को लेकर अभ्यर्थी लोगों के पास पहुंच रहे हैं और शहर को नया रूप देने के लिए वचनबद्ध भी हो रहे हैं। नगर निगम चुनाव को लेकर रविवार को माइको पर सासाराम नगर निगम के डिप्टी मेयर प्रत्याशी सत्यवंती देवी ने प्रेस वार्ता का आयोजन किया।

इस दौरान पत्रकारों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सासाराम नगर निगम में महिलाओं की जो समस्या है वह महिलाओं से मिलने के बाद भी प्रतीत हुआ है। उन्होंने कहा कि जहां भी वो जा रही है महिलाएं उन्हें अपनी समस्याओं से अवगत करा रही हैं और उस समस्याओं को दूर करने के लिए आग्रह कर रही है। उन्होंने कहा कि आज महिलाओं के लिए शहरी क्षेत्रों में एक भी शौचालय नहीं है इसलिए मेरे एजेंडे में सर्वप्रथम महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों के लिए डीलक्स शौचालय का निर्माण करवाना मुख्य है। इसके अलावा महिलाओं को उद्यमी बनाने के लिए जो भी सरकार की योजनाएं चलाई रही है उसका लाभ उन्हें दिलवाना होगा।

उन्होंने कहा कि सासाराम ऐतिहासिक शहर है और इसके इतिहास को संजोए रखना हम सभी का कर्तव्य होता है। ऐसे में सबसे पहले ऐतिहासिक धरोहरों को विश्व पटल पर लाने में कार्य किया जाएगा और शहर की जो सबसे बड़ी समस्या जल निकासी और गंदगी है उसे दूर किया जाएगा ताकि हमारे ऐतेहासिक धरोहरों को देखने के लिए जब कोई व्यक्ति अन्य राज्यों से आए तो वह शहर की स्थिति देख कर गर्व महसूस करें। सत्यवंती देवी ने कहा कि चुनावी भ्रमण के दौरान गरीब घरों में शिक्षा की कमी दिखी।

गरीब परिवारों के बच्चों को खासकर लड़कियों को शिक्षा से जोड़ने का कार्य किया जाएगा ताकि लड़कियां पढ़ाई कर अपना भविष्य संवार सकें। इसके लिए सरकारी स्कूलों को सुदृढ़ किया जाएगा और शहरी क्षेत्रों में लाइब्रेरी की व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा बच्चों के साथ-साथ बड़ों के लिए मनोरंजन पार्क का भी निर्माण करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि लोगों का सहयोग रहा तो हमारा सासाराम बदलेगा और शहर के लोग खुद को गौरवान्वित महसूस करेंगे। मौके पर पूर्व सासाराम नगर परिषद के उप मुख्य पार्षद चंद्रशेखर सिंह भी मौजूद रहे।

अगली खबर

जातिगत जनगणना को लेकर सर्वदलीय बैठक, तेजस्वी ने कही बड़ी बात

पटना: जातिगत जनगणना को लेकर सभी पार्टियों की सर्वदलीय बैठक बुलाई गई थी. ये बैठक पटना में आयोजित हुआ था. जहां RJD का प्रतिनिधित्व तेजस्वी यादव कर रहे थे. तेजस्वी यादव ने कहा कि बिल को अगली कैबिनेट बैठक में लाने और नवंबर के महीने में इसे शुरू करनी चाहिए. उनका आगे कहना था कि छठ पुजा में बिहार से बाहर रहने वाले कई लोग घर आते हैं इस समय आकड़े सही प्राप्त होंगे, और पर्याप्त समय भी तैयारी करने के लिए मिल जाएगा. पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कहा कि जातीय जनगणना है ना कि जनगणना, ये हमारी जीत है. बैठक के दौरान तेजस्वी ने बताया कि इसमें मानव शास्त्रियों को शामिल करने के लिए अपना सुझाव दिया है. इसे लेकर केन्द्र सरकार को आगे आना चाहिए और आर्थिक रुप से समर्थन करना चाहिए. ये फैसला बिहार के रहने वाले लोगों के हित में है.

नीतीश कुमार ने कही ये बात

बिहार प्रदेश के मुखिया नीतीश कुमार ने बैठक को लेकर अपनी खुशी जताई. उन्होंने कहा कि सरकार राष्ट्रीय स्तर पर जाति जनगणना कराने के लिए केंद्र की अनिच्छा के बाद राज्य में “सभी जातियों और समुदायों का सामाजिक-आर्थिक सर्वेक्षण” करेगी. वही सर्वदलीय बैठक की अध्यक्षता करने के बाद, कुमार ने कहा कि विशाल अभ्यास के लिए आवश्यक कैबिनेट मंजूरी जल्द ही दी जाएगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि ये खुशी के बात है कि सभी दलों के लोगों ने इस बैठक को लेकर सर्वसम्मति से समर्थन किया है.

बीजेपी से कौन-कौन शामिल

उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और राज्य इकाई के प्रमुख संजय जायसवाल ने बैठक में भाग लिया. बीजेपी अपने केन्द्र के फैसले पर अडिग रही. इस बैठक को लेकर बीजेपी के नेताओं ने कैमरे से बचने की कोशिश की. जातीय जनगणना को लेकर बीजेपी के कई नेता इसके हक में नहीं है लेकिन उनके भी अपनी मजबूरी है. आपको बता दें कि केन्द्र सरकार ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि अगर राज्य सरकार जातीय जनगणना कराना चाहती है तो राज्य सरकार स्वतंत्र है. केन्द्र सरकार के तरफ से कोई भी आर्थिक मदद नहीं मिल पाएगी.

अगली खबर

जाति आधारित जनगणना का विरोध BJP करेगा तो टूट जाएगा NDA का गठबंधन : BJP थिंक टैंक

रोहतास पत्रिका/पटना: बिहार में जातिगत जनगणना को लेकर सभी पार्टियों की सहमति बन गई है. इस बात की जानकारी शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने दी. शिक्षा मंत्री ने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री ने पहले ही बता दिया है कि जाति आधारित जनगणना पर जल्द ही पटना में एक बैठक होगी. मंत्री ने स्पष्ट करते हुए बताया कि बिहार सरकार ने एक जून (बुधवार) को पटना में जाति आधारित जनगणना के मुद्दे पर सर्वदलीय बैठक करने का फैसला किया है. इस तारीख पर सभी दलों ने अपनी सहमति जताई है. आगे चौधरी ने कहा कि बैठक का स्थान 4 देश रत्न मार्ग, पटना में शाम करीब 4 बजे आयोजित होगा. वही बैठक में सभी पार्टियों के शीर्ष नेताओं का आगमन तय माना जा रहा है.

सभी पार्टियों की सहमति

27 मई को हुई बैठक को लेकर नीतीश कुमार ने सकारात्मक संकेत दिए थे. बिहार में भारतीय जनता पार्टी (BJP) को छोड़कर RJD, JDU, कांग्रेस, वाम दल, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (एचएएम) और अखिल भारतीय मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) सहित सभी दलों ने जाति-आधारित जनगणना पर सहमति व्यक्त की. भाजपा अपने केंद्रीय नेतृत्व के रुख पर अड़ी हुई थी, जिसने देश में जाति आधारित जनगणना नहीं करने का फैसला किया था हालांकि अब बीजेपी की रूख में हल्की नरमी देखी जा रही है.

BJP की असहमति से टूट जाएगी गठबंधन

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जाति आधारित जनगणना कराने के अपने फैसले पर अडिग हैं. BJP थिंक टैंक का मानना ​​है कि अगर वे बिहार में जाति आधारित जनगणना का विरोध करेंगे तो सीएम नीतीश कुमार बीजेपी से गठबंधन तोड़ सकते हैं और राजद की मदद से बिहार में सरकार बना सकते हैं. नीतीश कुमार और तेजस्वी की बढ़ती नजदीकियों से BJP परेशान दिख रही है. भाजपा को डर सता रहा कि गठबंधन ना टूटे, इसी को ध्यान में रखते हुए पार्टी ने अपनी सहमति जताई है. आपको बता दें, प्रधानमंत्री ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि राज्य अपने खर्च पर जाति आधारित जनगणना करने के लिए स्वतंत्र हैं.

अगली खबर

“नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव के बीच बढ़ी नज़दीकियां तो CBI ने लालू यादव के आवास पर मार दी रेड” – RJD विधायक मुकेश रौशन

बिहार के पूर्व मुखिया लालू प्रसाद के घर तड़के सुबह CBI की टीम ने रेड मारी है. पटना और दिल्ली समेत 17 ठिकानों पर छापेमारी जारी है. टीम ने बताया कि रेलवे भर्ती बोर्ड में हुई गड़बड़ी को लेकर कार्रवाई हुई है. पटना, दिल्ली और गोपालगंज समेत कई जगहों पर रेड जारी है. घर के सदस्यों को अलग-अलग कमरे में बैठाकर पूछताछ की जा रही है. वहीं दिल्ली में मिसा भारती के घर पर CBI के बड़े अधिकारी पहुंचे है.

तेज प्रताप यादव को बैठाया पेड़ के नीचे

CBI की टीम पहुंचते ही RJD के कार्यकर्ताओं ने घर के बाहर प्रदर्शन करना शुरु कर दिया है. धरने पर बैठे कई RJD के नेताओं ने कहा कि ये बदले की राजनीति है. सरकार हमारे नेता लालू यादव जी को परेशान करने में लगी है लेकिन हम चुप बैठने वाले नहीं है. वहीं टीम ने तेज प्रताप को पेड़ के नीचे बैठा दिया था. इसके बाद तेज प्रताप ने बिना कुछ कहे चुपचाप पेड़ के नीचे बैठे रहें. 10 सर्कुलर रोड स्थित आवास पर CBI की 8 सदस्यीय अफसरों में महिला कर्मचारी भी छानबीन के लिए पहुंची है. आवास में किसी को अंदर बाहर जाने पर रोक लगा दिया गया है. टीम सभी दस्तावेजों को खंगाल रही है. वहीं राबड़ी देवी से पूछताछ करने की खबरें आ रही हैं.

पुरा मामला क्या है?

आपको बता दे कि 2004 से 2009 के बीच लालू प्रसाद यादव रेलमंत्री थे इसी बीच रेलमंत्री ने नौकरी देने के बदले जमीन और कई प्लॉट लिए. इसी आरोप को लेकर एक नया केस दर्ज हुआ है, जिसे लेकर CBI की टीम जांच में लगी है. ये केस लालू यादव और उनकी बेटी मिसा भारती पर हुई है. इधर, RJD के विधायक मुकेश रौशन ने कहा कि RJD और JDU के नजदीकियों से BJP परेशान हो गई है इसलिए छापेमारी करवा रही हैं. इस समय लालू यादव की तबीयत खराब है, उनका इलाज अस्पताल में चल रहा है और तेजस्वी यादव भी शहर से बाहर है.ऐसे समय में रेड मारना उचित नहीं है.

अगली खबर

Sasaram: सबल ने संपन्न कराया एचसीएल ग्रुप द्वारा संचालित विद्याज्ञान प्रवेश परीक्षा

रोहतास पत्रिका/सासाराम: एचसीएल ग्रुप के संस्थापक शिवनादर की जनहित में पहल विद्याज्ञान प्रवेश परीक्षा को आज सबल ने रोहतास जिले के स्कॉटिश सेंट्रल स्कूल के प्रांगण में संपन्न कराया। विद्याज्ञान प्रवेश परीक्षा में पांचवी कक्षा में पढ़ने वाले छात्र भाग लिए एवं इस परीक्षा में जो छात्र अंतिम रूप से चयनित होंगे उनकी छठवीं से लेकर बारहवीं कक्षा तक की शिक्षा, आवासीय एवं सभी तरह के खर्च को एचसीएल ग्रुप द्वारा वहन किया जाएगा। सभी छात्र-छात्राओं को संस्था द्वारा देश के वर्ल्ड क्लास विद्यालय में शिक्षा लेने में सहायता प्रदान की जाएगी।

विद्यालय परिसर के अंदर शांति पूर्वक कदाचार मुक्त परीक्षा कराने के लिए एचसीएल ग्रुप से वैभव एवं अभिषेक परीक्षा नियंत्रक के रूप में केंद्र पर पूरे समय निरीक्षण में रहे। वहीं परीक्षा को शत् प्रतिशत उनके मानक स्तर के साथ संपन्न कराया गया। इस बात की पुष्टि करते हुए अरुणिश कुमार ने बताया की सबल अपने सभी तरह की जिम्मेदारी को सिर्फ इस वजह से पूर्ण कर पाया क्यूंकि इसके लिए संस्था के प्रत्येक सदस्य की निष्ठा समाहित रहती है।

विद्याज्ञान प्रवेश परीक्षा में शामिल होने के लिए छात्रा की उम्र सीमा 31 मार्च 2012 से 31 मार्च 2014 तक निर्धारित थी। जबकि छात्र की उम्र 31 मार्च 2013 से लेकर 31 मार्च 2014 तक था। वहीं ग्रामीण क्षेत्र में माता पिता की वार्षिक आय अधिकतम एक लाख रुपए जबकि शहरी क्षेत्र में अधिकतम दो लाख रुपए निर्धारित किया गया था।

सबल के सचिव रविशंकर पाण्डेय ने बताया की रोहतास जिले में इस परीक्षा को संचालित करने की जिम्मेदारी को निभाते हुए सामाजिक संस्था सबल ने कुल चार चरणों में बच्चों से संपर्क कर बच्चों के फॉर्म भरने, एडमिट कार्ड उन तक पहुंचाने, एवं बच्चों को उनके घर से परीक्षा केंद्र तक लाने एवं पहुंचाने की समुचित व्यवस्था के साथ परीक्षा को संपन्न कराया।

परीक्षा केंद्र पर निगरानी के लिए मिथिलेश पाठक, सोनम प्रिया, मनीष गुप्ता, आदित्य गोलू, नागेंद्र पाण्डेय, विशाल सहस्रामी, सुधांशु कुमार, रजनीश कुमार सिंह, अमन कुमार, अमृतेष कुमार, निर्भय कुमार, मोनू कुमार, धनेश मिश्र, चर्चितानंद पाठक, रवि कुमार, रविरंजन कुमार, नीरज कुमार को लगाया गया था। इस परीक्षा में जिले के विभिन्न क्षेत्रों से लगभग तीन सौ की संख्या में विद्यालयी छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

अगली खबर

Shark Entertainment कंपनी की हुई शुरुआत, गायकी में उभरते युवाओं को मिलेगा मौका

Shark Entertainment

रोहतास पत्रिका/सासाराम: रोहतास जिले के साथ साथ बिहार और उत्तर प्रदेश में गीत संगीत में उभरते कलाकारों को बेहतर प्लेटफार्म उपलब्ध कराने के उद्देश्य से सासाराम में Shark Entertainment (शार्क इंटरटेनमेंट) कंपनी की शुरुआत की गई। कंपनी के डायरेक्टर संजीव कुमार, रमेश कुमार सिंह, अंशुल कुमार, कौशल कुमार सिन्हा ने संयुक्त रूप से केक काट कर शार्क इंटरटेनमेंट म्यूजिक कंपनी की शुरुआत की। मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में भोजपुरी जगत की प्रसिद्ध एक्ट्रेस ज्योतिका पासवान एवं निकिता भरद्वराज भी मौजूद रहीं।

शार्क इंटरटेनमेंट कंपनी की शुरुआत स्वाति श्रेया शर्मा के गए गाने की लॉन्चिंग के साथ किया गया। वही कंपनी ने स्वाति श्रेया शर्मा के साथ 15 गानों के लिए कॉन्ट्रैक्ट भी साइन किया। कंपनी के डायरेक्टर ने बताया की बिहार के साथ साथ उत्तर प्रदेश में कई ऐसे उभरते युवा कलाकार है जिनको गाने के लिए बेहतर प्लेटफार्म नही मिल पाता है जिस वजह से उनकी कला दम तोड देती है। ऐसे ही कलाकारों को उनकी मंजिल तक पहुंचाने के लिए शार्क इंटरटेनमेंट की शुरुआत की गई है।

उनलोगों ने बताया की रोहतास जिले में कई ऐसे स्थान है जहां गाने की शूटिंग के लिए बेहतर लोकेशन उपलब्ध हो जायेगा। इससे रोहतास जिले में पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। उन लोगों ने बताया की दहहरा और छठ पूजा के लिए रोहतास और कैमूर जिले के कई स्थानों पर गानों की शूटिंग शुरू की जाएगा। मौके पर सासाराम नगर परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष चंद्रशेखर कुशवाहा, समाजसेवी रवि देवा, शशि प्रकाश, मेकअप आर्टिस्ट सोनी गुप्ता सहित अन्य लोग मौजूद रहें।

Facebook Page: Click Here

Instagram Page: Click Here

अगली खबर

सासाराम: 55 हज़ार घुस लेते सिविल सर्जन ऑफिस के लिपिक को विजिलेंस ने किया गिरफ़्तार

Sadar Hospital

रोहतास पत्रिका/सासाराम: रोहतास में एक बार फिर विजिलेंस टीम द्वारा कार्यालय का सहायक लिपिक को गिरफ्तार किया गया है। यह गिरफ्तारी कब हुई जब सहायक लिपिक किसी काम को करने के आवाज में घूस लेने चाय दुकान पहुंचा था। मिली जानकारी के अनुसार सदर अस्पताल सासाराम स्थित सीएस कार्यालय में पोस्टेड लिपिक संतोष कुमार को निगरानी विभाग द्वारा 55000 रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है।

शिकायत के बाद गुप्त सूचना के आधार पर पहुंचे निगरानी विभाग के टीम द्वारा गौरक्षिणी स्थित चाय दुकान से लिपिक को गिरफ्तार किया है। हालांकि किस काम को करने के लिए पैसों का डिमांड किया था इसका अब तक खुलासा नहीं हो पाया है। फिलहाल लिपिक को गिरफ्तार करने के बाद निगरानी टीम पटना के लिए रवाना हो गई।

क्या कहते है सिविल सर्जन 

इस संदर्भ में रोहतास सिविल सर्जन डॉक्टर के एन तिवारी ने बताया कि उन्हें निगरानी के डीएसपी ने इस बात की सूचना दिया है। उन्होंने बताया कि निगरानी विभाग के डीएसपी पवन कुमार ने फोन कर बताया कि 55 हजार कैश के साथ उनके एक कर्मी को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार कर्मी का नाम संतोष कुमार है और वो लिपिक के रूप में सिविल सर्जन कार्यालय में कार्यरत है।

2021 में भी एक क्लर्क हुआ था गिरफ्तार 

दिसंबर 2021 में सिविल सर्जन कार्यालय में ही कार्यरत राजकृष्ण नाम के एक क्लर्क को 10 हजार रिश्वत लेते हुए निगरानी विभाग ने गिरफ्तार किया था। जिसके बाद से सदर अस्पताल के कर्मियों के बीच खौफ हो गया था। हालांकि कुछ समय बीत जाने के बाद स्थिति सामान्य हो गई और पैसों का खेल फिर से शुरू हो गया। तीन वर्षों में हुए दो गिरफ़्तारी से साफ जाहीर होता है की सिविल सर्जन कार्यालय रिश्वतखोरी का अड्डा बना हुआ है।

अल्ट्रासाउंड, पैथोलॉजी और मेडिकल स्टोर से महिना फिक्स

रोहतास जिले में कई ऐसे अल्ट्रासाउंड सेंटर,पैथोलॉजी जांच घर, मेडिकल स्टोर एवं अस्पताल है जो अवैध रूप से संचालित होते है। अवैध केंद्रों के संचालनकर्ता द्वारा सिविल सर्जन कार्यालय में पदस्थापित कर्मियों को हर महीने मोटी रकम पहुचाई जाती है। नाम नहीं लिखने के शर्त पर सदर अस्पताल के ही एक कर्मी ने बताया कि सबसे महिना फिक्स है। अल्ट्रासाउंड सेंटर से 5-7 हजार, पैथोलॉजी जांच घर से 2-3 हजार और मेडिकल स्टोर से लगभग 500-1000 महिना लिया जाता है।

अगली खबर

भावनाओं को शेयर न करना बना सकता है आपको मनोरोगी- डॉ. विप्लव

Rohtas Patrika

रोहतास पत्रिका/शिवसागर: मनोरोग विभाग के वरीय नैदानिक मनोवैज्ञानिक डॉ. विप्लव कुमार सिंह एवं साइकायट्रिक नर्स के. महेश्वरन ने  शकुंतलम बीएड कालेज के विद्यार्थीयों के बीच “टेली-मानस जागरूकता शिविर” का आयोजन किया गया। इस शिविर में भारत सरकार के मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रम के तहत मनोरोग के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा कर विद्यार्थियों को जागरूक किया गया। वहीं डॉक्टरों की टीम ने उचित मनोपरामर्श व प्रबंधन के गुर भी बताये गए।

शिविर में वरीय नैदानिक मनोवैज्ञानिक डॉ. विप्लव कुमार सिंह ने बताया कि किसी व्यक्ति को अपनो का सपोर्ट या सामाजिक सपोर्ट समाप्त हो जाता है तो, संभवतः ज्यादा चांस रहता है कि व्यक्ति मनोरोगी बन जायेगा। मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। वह समाज में रहकर ही इससे सीखता है। खुशी, प्यार, गम का आदान-प्रदान करता है। जब इस आदान-प्रदान के क्रिया कलापों पर सामाजिक सपोर्ट दूर होने लगता है तो, व्यक्ति में एक एकाकीपन तथा घुटन सी महसूस होने लगता है। फलतः व्यक्ति मनोरोगी होने कि ओर बढ़ने लगता है। इसलिए व्यक्ति को अपने आसपास के लोगों से दोस्ती बनाकर अपनी बातों को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें, हंसी-मजाक जैसे वातावरण भी रखें, ताकि तनाव को सरलता से झेला जा सके।

किसी भी मनुष्य को अपनी घुटन या अपने पर घटित घटनाओं का फिलिंग को शेयर करना आवश्यक होता है। वरना यही उसके व्यवहार में या व्यक्तित्व में एक खलबली सी मचा देगा और व्यक्ति मानसिक अस्वस्थता कि ओर आज नहीं तो कल बढ़ ही जायेगा। इसलिए अपनी खुशी या गम शेयर करने कि कला सीखने का अभ्यास करते रहना चाहिए। मनोरोग से बचे रहेंगे एवं सामाजिक दायित्वों को सरलता से निभाने कि कला का विकास भी कर सकेंगे। जो रोगी हैं बताये गये प्रबंधन का अभ्यास दवा सेवन के साथ-साथ करते रहना आपको जल्दी स्वस्थ बनायेगा। निरोगी व्यक्ति भी ऐसे मनोवैज्ञानिक प्रबंधन को अपनायेगें तो सदा स्वस्थ बने रहेंगे।

वहीं शिविर में मनोवैज्ञानिक नर्सिंग केयर के बारे साइकायट्रिक नर्स के. महेश्वरन ने भी विस्तार से विद्यार्थीयों को मनोरोग तथा मानसिक स्वास्थ्य के लिये मनोवैज्ञानिक केयर को समझाया। इन्होंने बताया की मानसिक स्वास्थ्य पर बुजुर्गों को भी ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है। इस अवसर पर कालेज के चेयरमैन एस एन ओझा, निदेशक अनिल कुमार सिंह, प्राचार्य डॉ. अवधेश कुमार मिश्रा, शिक्षक दीपक कुमार, इर्शाद अहमद एवं सीमा कुमारी सहित कालेज के सभी कर्मचारियों मौजूद रहें और सफल आयोजन में अपना योगदान दिया।

अगली खबर

रोहतास: अधजली महिला का शव बरामद, नहीं हो सका है शिनाख्त

Darigaon Thana

रोहतास पत्रिका/सासाराम: दरिगांव थाना क्षेत्र से एक 28 वर्षिय महिला का अधजला शव बरामद किया गया है। घटना थाना क्षेत्र के मुड़ीसराय गांव की बताई जाती है। मिली जानकारी के अनुसार मुड़ीसराय गांव अंतर्गत दुर्गावती जलाशय नहर के पूरबी छोर पर शुक्रवार की सुबह गांव की महिलाएं शौच करने के लिए निकली हुई थी, तभी उनकी नजर अधजली महिला के शव पर पड़ी।

अधजली शव को देखकर स्थानीय महिलाएं भयभीत हो गई और शोर मचाना शुरू कर दिया। गांव में खबर आग की तरह फैल गई और देखते ही देखते वहां लोगों की भीड़ इकट्ठी हो गई। गांव के लोगों ने इसकी सूचना तत्काल रूप से स्थानीय थाना को दिया। मौके पर पहुंची थाने की पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेते हुए उसकी जांच पड़ताल करनी शुरू कर दी। फिलहाल खबर लिखे जाने तक शव की पहचान नहीं हो पाई है।

क्या कहते है थानाध्यक्ष

इस संबंध में दरिगांव थानाध्यक्ष संतोष सिंह ने बताया कि मुड़ीसराय के लोगों ने अज्ञात शव मिलने की सूचना दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेते हुए आसपास से जानकारी इकट्ठा करने का प्रयास किया परंतु कुछ जानकारी नहीं मिल पाया है। शव वहां कैसे पहुंचा, इसकी भी जानकारी नहीं मिल पाई है।

थानाध्यक्ष ने बताया कि शव को अपने कब्जे में लेते हुए फिलहाल पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया है। महिला की मृत्यु कैसे हुई वह पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मालूम चल पाएगा। फिलहाल शव की पहचान करने की कोशिश की जा रही। आसपास के थानों से गुम हुई महिलाओं की जानकारी इकट्ठा किया जा रहा हैं।