More

    Cyclone Jawad: 12 घंटे में चक्रवात ‘जवाद’ दिखाएगा अपना खेल, जानें कहां-क्या होगा असर

    रोहतास पत्रिका/नई दिल्ली:

    बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र तेज होकर चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ में बदल सकता है। इसके शनिवार सुबह उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिण ओडिशा के तटों तक पहुंचने की संभावना व्यक्त की जा रही है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने कहा कि विशाखापत्तनम से करीब 770 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पूर्व में गुरुवार देर रात बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना दबाव उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है।

    यह दबाव शुक्रवार की सुबह पश्चिम-मध्य से सटे दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक गहरे दबाव में बदल गया। मौसम विभाग के अनुसार, इसके अगले 12 घंटों में चक्रवाती तूफान में बदलने और शनिवार सुबह तक उत्तर आंध्र प्रदेश-ओडिशा तट तक पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है। ओडिशा, आंध्र प्रदेश और गंगीय पश्चिम बंगाल के कई हिस्सों में भारी से बेहद भारी बारिश की संभावना है, जिससे आईएमडी ने निचले इलाकों में बाढ़ और खड़ी फसलों, विशेष रूप से धान को संभावित नुकसान के बारे में चेतावनी जारी की है।

    चक्रवात ‘जवाद’ से उत्पन्न होने वाले प्रतिकूल प्रभावों को रोकने के लिए ओडिशा सरकार ने दिशा-निर्देश जारी किए हैं। विशेष राहत आयुक्त प्रदीप कुमार जेना ने कहा कि सरकार तटीय जिलों में राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ), राज्य अग्निशमन सेवा और ओडिशा आपदा त्वरित कार्रवाई बल (ओडीआरएएफ) सहित 266 टीमों को तैनात करने की योजना बना रही है। राज्य सरकार उभरती स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है, 14 तटीय जिलों को अलर्ट पर रखा गया है और आने वाले चक्रवाती तूफान को देखते हुए सभी आवश्यक कदम उठाने के लिए कहा गया है।

    चक्रवात जवाद के कारण मछुआरों के जीवन और संपत्ति की सुरक्षा के लिए 3 दिसंबर से 5 दिसंबर तक ओडिशा के पूरे तट के साथ प्रादेशिक जल के भीतर मछली पकड़ने की गतिविधियों पर रोक लगा दी गई है। मत्स्य पालन और एआरडी विभाग ने कहा, “आसन्न चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ के मद्देनजर प्रचुर सावधानी के उपाय के रूप में ओडिशा और चिल्का झील के पूरे तट पर 3 दिसंबर 2021 से 5 दिसंबर, 2021 तक मछली पकड़ने की गतिविधियों को प्रतिबंधित करने की आवश्यकता है।”

    Source: Hindustan

    Latest articles

    Related articles